The Captain played friendship with the Akalis by releasing

निजी कंपनियों को 4000 करोड़ रुपए जारी कर कैप्टन ने निभाई अकालियों से दोस्ती (विधायक मानूके)

Latest Punjab

जगराओं:-(दिनेश शर्मा) : अकाली भाजपा सरकार द्वारा पंजाब को बिजली सरप्लस प्रदेश बनाने के लिए निजी बिजली घरों से किए गए 25 वर्ष के समझौते के तहत कैप्टन सरकार द्वारा निजी कंपनियों को 4000 करोड रुपए जारी करने के फैसले से कैप्टन की अकालियों से दोस्ती एक बार फिर जगजाहिर हो गई है । इन विचारों का प्रगटावा जगराओं की विधायका एवं विधानसभा में उपनेता सर्वजीत कौर मानूके द्वारा प्रेस बयान जारी कर किया गया ।

उन्होंने कहा कि बड़े दुख एवं शर्म की बात है कैप्टन सरकार ने पावर कॉम विभाग द्वारा बिना बिजली का प्रयोग किए ही निजी बिजली कंपनियों को 4000 करोड रुपए जारी कर दिए गए हैं । इसका सीधा सीधा असर पंजाब के खजाने और पंजाब की जनता की जेब पर पड़ेगा क्योंकि पहले ही पंजाब सरकार द्वारा दूसरे प्रदेशों के मुकाबले पंजाब की जनता को महंगी बिजली दी जा रही है ।

और यह पैसे जारी करने के बाद पंजाब में बिजली के रेट और भी बढ़ाए जाएंगे विधायक मानूके ने कहा कि आम आदमी पार्टी पहले ही पंजाब की जनता को कह रही है कि अकाली और कांग्रेसी अंदर खाते एक हैं और अब कैप्टन सरकार द्वारा बिना बिजली का प्रयोग किए 4000 करोड रुपए जारी कर अकालियों से अपनी दोस्ती निभाई है। और अकाली भाजपा सरकार द्वारा लिए गए गलत फैसले पर अपनी सहमति दे दी है।

उन्होंने पंजाब सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि एक तरफ तो पंजाब सरकार प्रदेश के कॉरपोरेट धरानो पर करोड़ों रुपए का खजाना लुटा रही है । जबकि दूसरी तरफ प्रदेश के आम लोग एक वक्त की रोटी के लिए भी तरस रहे हैं , और सरकार बिजली के बिलों में बकाए की आड़ में गरीब जनता से लूटखसूट कर रही है।

उन्होंने कहा कि महंगी बिजली के मुद्दे पर आम आदमी पार्टी द्वारा पंजाब मुहिम शुरू कर दी गई है। आम लोगों से भी अपील है कि वह आम आदमी पार्टी द्वारा चलाई इस मुहिम में शामिल हो और पंजाब सरकार पर दबाव बनाकर अकाली भाजपा सरकार के चहेतों के साथ किए गए 25 साल के समझौते को रद्द करने के लिए मजबूर कर दे। साथ ही उन्होंने कहा कि पंजाब में आम आदमी पार्टी की सरकार बनने पर प्राइवेट कंपनियों के साथ किए गए सारे समझौते रद्द किए जाएंगे और लोगों को सस्ती बिजली मुहैया करवाई जाएगी|

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *