Punjab Congress President Navjot Singh Sidhu appointed MLA

पंजाब कांग्रेस अध्यक्ष सिद्धू ने विधायक परगट सिंह को पंजाब प्रदेश कांग्रेस कमेटी का महासचिव नियुक्त किया

Latest Punjab

जालंधर ( पंजाब 365 न्यूज़ ) : काफी कलह के बाद सिद्धू प्रदेश अध्यक्ष बन तो गए थे लेकिन अभी भी वो cm,कैप्टन अमरिंदर सिंह की अनदेखी करते हर जगह नज़र आ ही जाते है। आपको बता दे की पंजाब में कांग्रेस प्रधान बनने के बाद नवजोत सिद्धू ने प्रगट सिंह को प्रदेश महासचिव बना बड़ी जिम्मेदारी सौंपी है। प्रगट सिंह जालंधर कैंट से कांग्रेस के विधायक हैं। सिद्धू ने जब आवाज ए पंजाब फोरम बनाया था तो भी प्रगट साथ थे। सिद्धू का यह फैसला कांग्रेसी सियासत के लिहाज से अहम है क्योंकि प्रगट ने मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह का खुलकर विरोध किया था। सिद्धू को पंजाब में कांग्रेस प्रधान बनाने के लिए प्रगट सिंह ने भी कैप्टन का विरोध दबाने का पूरा जोर लगाया था।

सिद्धू को कुर्सी मिली तो उन्होंने प्रगट के साथ भी दोस्ती निभा दी। वहीं, कैप्टन अमरिंदर सिंह अभी तक केबिनेट में बदलाव नहीं कर पाए हैं। जालंधर कैंट के विधायक परगट सिंह का मानना है कि नवजोत सिंह सिद्धू एक बड़ा चेहरा हैं। अगर कांग्रेस उनके नेतृत्व में पंजाब में चुनाव लड़ती है तो इसका बड़ा फायदा पार्टी को मिलेगा। परगट सिंह और नवजोत सिंह सिद्धू दोनों ही खेल जगत से राजनीति में आए हैं और दोनों में अच्छी खासी दोस्ती भी है। यही वजह है कि सिद्धू के साथ अक्सर परगट सिंह भी कैप्टन की आलोचना करते रहे हैं। कैप्टन की खुलेआम खिलाफत और सिद्धू से नजदीकियों के कारण ही परगट सिंह को पार्टी में दरकिनार कर दिया गया है।


आपको बता दे की दोनों में अच्छी खासी दोस्ती भी है। यही वजह है कि सिद्धू के साथ अक्सर परगट सिंह भी कैप्टन की आलोचना करते रहे हैं। कैप्टन की खुलेआम खिलाफत और सिद्धू से नजदीकियों के कारण ही परगट सिंह को पार्टी में दरकिनार कर दिया गया है।

पहले माना जा रहा था कि पंजाब में आने वाले विधानसभा चुनाव में परगट सिंह की जालंधर कैंट सीट से टिकट कट सकती है। लेकिन अब सिद्धू ने जिस तरह से बड़ी जिम्मेदारी परगट सिंह को सौंपी है, उससे साफ है कि अब फिर परगट सिंह का राजनीतिक करिअर उड़ान भरेगा और उन्हें दोबारा से जालंधर कैंट की टिकट मिल सकती है।

भारतीय हॉकी टीम के पूर्व कप्तान परगट सिंह को सिद्धू के काफी करीबी और कैप्टन के विरोधी माने जाते हैं। परगट सिंह को महासचिव नियुक्त किए जाने के पत्र में सिद्धू ने एक बार फिर कैप्टन अमरिंदर सिंह को दरकिनार किया। उन्होंने पत्र में लिखा है कि वे कांग्रेस प्रधान सोनिया गांधी, एआईसीसी महासचिव (संगठन) केसी वेणुगोपाल और पंजाब कांग्रेस प्रभारी हरीश रावत की अनुमति से परगट सिंह को पंजाब प्रदेश कांग्रेस कमेटी के महासचिव (संगठन) नियुक्त करते हैं।


कैप्टन अमरिंदर सिंह अभी तक केबिनेट में बदलाव नहीं कर पाए हैं। यह माना जा रहा था कि सिद्धू के प्रधान बनते ही कैप्टन यह फैसला ले लेंगे। सिद्धू को प्रधानगी का विरोध छोड़ने के एवज में उन्हें केबिनेट में बदलाव के पूरे अधिकार दिए गए थे। इसके बाद वह कुछ दिन पहले दिल्ली जाकर कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी को मिल चुके हैं। इसके बावजूद अभी तक कोई फैसला नहीं हुआ। इसके उलट नवजोत सिद्धू ने तेजी दिखाते हुए पहले अपने चार सलाहकार लगा दिए और अब महासचिव नियुक्त कर दिया

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *