dead body of shaheed parvinder singh

सेजल आंखो से सैंकडों जगराओं वासीयो नें दी शहीद परविंदर सिंह को अतिंम श्रधांजली,शव यात्रा में लगे अमर रहे के नारे

Latest Punjab

जगराओं,(ज्ञानदेव बेरी-दिनेश शर्मा) : स्थानीय रायकोड रोड पर पडते मुहल्ला गांधी नगर के लेह लदाख में शहीद हुए नायब सूबेदार परविंदर सिंह सोनी का अतिंम संस्कार रविवार को रात करीब नौ बजे साईस कालेज के नजदीक बनें शमशानघाट में किया गया।शहीद की अतिंम शव यात्रा दौरान जंहा शहीद परविंदर सिंह सोनी अमर रहे के नारे लगे वही प्रशासन व राजनेताओं की और सें शहीद की पवित्र देह पर पुष्प मालाए चढा कर उन्हे श्रधांजली अर्पित की गई।

उनकी चिता को दोनो बेंटे जिसमें बडा बेटा 13 वर्षीय सिमरजीत सिंह व छोटा बेटा 11 वर्षीय जसप्रीत सिंह एवं उनके भाई ने मुखाग्नि दी। जानकारी के मुताबिक लेह लदाख से हवाई जहाज के जरिए परविंदर सिंह का शव रविवार की दुपिहर को पानीपत लाया गया जंहा से सडक रास्ते उनका ताबूत में बंद तिंरगे में लिपटा शव देर रात पौने नौ बजे के करीब जगारओं पहुंचा।

यहा पर शहीद को उनके घर में माथा टिकवा कर सीधे शमशानघाट ले जाया गया जंहा पर कई घंटो से सैंकडो शहरवासी सडक के दोनो और खडे शहीद के अतिंम दर्शनो के इंतजार में पहले ही थे। शमशानघाट में पहुंचकर ही शहीद के परिवार के सदस्यो को उनका अतिंम बार चेहरा दिखाया गया।

शव के साथ पहुंचे फौज के लोग ,जंहा पिता का शव देख फूट फूट कर रो रहे दोनो बेटो को हौंसला देते रहे वही शव को देंखने के बाद शहीद की पत्नी नें अतिंम बार जय हिंद का नारा लगा अपने बहादुर पति को अतिंम विदाई दी।

यहा वणर्णनीय है कि “22 वीं पंजाब आफ रेजीमेंट “ में डयुटी पर देश के लिए सेवा निभा रहे नायब सूबेदार परविंदर सिंह तीन पहले 25 फरवरी की रात को उस समय शहीद प्राप्त कर गए थे जब वो डयुटी दौरान एक पहाडी पार कर रहे थे। पहाडी से पैर फिसलने के चलते परविदंर सिंह सोनी बर्फ के नीचे दब गया जिन्हे इलाज के लिए अस्पताल भर्ती तो करवाया गया पंरतु 26 फरवरी को सुबह उन्होने दम तोडा और शहीदी प्राप्त कर ली।

24 वर्ष पहले वर्ष 1997 में फौज में भर्ती हुए शहीद परविंदर सिंह करीब 6 महीने पहले डयुटी पर गए थे और अगले महीने 10 मार्च को ही उन्होने वापिस छुट्टी पर घर आना था। शहीद परविंदर सिंह सोनी की पत्नी के मुताबिक 25 फरवरी को हादसे वाले दिन से दो दिन पहले ही उनकी पति के साथ फोन पर बात हुई थी जिन्होनें जल्द ही छुट्टी लेकर वापिस आने की बाते कही थी।

इस समय अतिंम संस्कार दौरान प्रशासन की और से एसडीएम जगराओं नरेंद्र सिंह धालीवाल,पूर्व अकाली विधायक एसआर कलेर,विधायक सर्बजीत कौर मानूके, सतिंदर पाल सिंह (काका) गरेवाल चेयरमैन मार्केट कमेटी जगराओं कौंसलर एवं समाज सेवक एडवोकेट रविंदर पाल सिंह राजू कामरेड कौंसलर रमेश सिंह महेशी सहोता नें भी परिवार के साथ दुख सांझा किया।

Total Page Visits: 216 - Today Page Visits: 1

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *