related to nomination

वार्ड नंबर 18 से एडवोकेट रविंदर पाल सिंह (राजू कामरेड) और उनके भाई जितेंद्र पाल राणा ने वार्ड नंबर 22 से किया नामांकन पत्र दाखिल

Latest Punjab

जगराओं:-(बेरी-दिनेश शर्मा) इसी महीने की आने वाली 14 फरवरी को नगर कौंसिल चुनाव होने जा रहे हैं इन्हीं नगर कौंसिल चुनावों के मद्देनजर सभी राजनीतिक दलों की तरफ से नगर कौंसिल चुनावों को लेकर सरगर्मियां तेज हो चुकी हैं और सभी राजनीतिक दलों के एवं आजाद उम्मीदवारों की तरफ से अपने अपने नामांकन पत्र दाखिल करने की प्रक्रिया भी शुरू कर दी गई है इसी प्रक्रिया के तहत आज वार्ड नंबर 18 से एडवोकेट रविंदर पाल सिंह (राजू कामरेड)व उनके भाई जितेंद्र पाल राणा की तरफ से भी जगराओं के तहसील कंपलेक्स में बने एसडीएम दफ्तर में पूर्व मंत्री मलकीत सिंह दाखा, मार्केट कमेटी चेयरमैन सतिंदरपाल सिंह काका ग्रेवाल, देहात कांग्रेस प्रधान सोनी गालिब, पूर्व ब्लाक प्रधान गोपाल शर्मा व अपने समर्थकों सहित नामांकन पत्र दाखिल किया गया।

नामांकन पत्र दाखिल करने पहुंचे एडवोकेट रविंदर पाल सिंह (राजू कामरेड)व जितेंद्र पाल राणा के साथ भारी गिनती मे आये जनसमूह ने उनके पक्ष में अपनी उपस्थिति दर्ज करवाते हुए उनकी हौसला अफजाई की इस समय बातचीत दौरान एडवोकेट रविंदर पाल सिंह (राजू कामरेड) कहा कि उनका परिवार पिछले कई दशकों से समाज सेवा के कार्य करते आ रहा है और उनके भाई जितेंद्र पाल राणा पिछली दो बार नगर कौंसिल चुनाव जीत चुके हैं और लोगों की सेवा कर रहे हैं इस बार अपने भाई जितेंद्र पाल राणा के साथ वह भी नगर कौंसिल चुनाव लड़ रहे हैं इस बार भी लोगों का भरपूर सहयोग और प्यार उन्हें मिल रहा है जिसे देखकर यह लगता है ।

दोनों वार्डो के मतदाता उनके पक्ष में मतदान कर उनके पर अपना भरोसा जताते हुए उन्हें ही नगर कौंसिल चुनावों में जिताएंगे और इस बार दोनों भाइयों को अपनी सेवा करने का मौका देंगे यहां पर यह वर्णनीय है दोनों भाई कांग्रेस पार्टी की तरफ से चुनाव लड़ रहे हैं और आज अपना नामांकन दाखिल करने के लिए अपने दफ्तर से अपने साथियों सहित पैदल चलकर तहसील कंपलेक्स में बने एसडीएम दफ्तर पहुंचे |बातचीत दौरान उन्होंने बताया कि वह यह नहीं चाहते थे कि उनके कारण शहरवासियों को किसी भी तरह की ट्रैफिक की समस्या का सामना करना पड़े क्योंकि हमारे शहर के लोग पहले ही ट्रैफिक की समस्या से काफी परेशान है साथ ही उन्होंने केंद्र सरकार के खिलाफ अपना रोष व्यक्त करते हुए कहा कि केंद्र की सरकार द्वारा पास किए गए कृषि बिलों के खिलाफ हमारे देश का अन्नदाता पिछले कई महीनों से दिल्ली की सरहदों पर बैठा हैं पर केंद्र की सरकार उनकी मांगों की तरफ ध्यान देते हुए कोई पुख्ता कदम नहीं उठा रही जिसके कारण हमारे देश का अन्नदाता अपना घर बार छोड़कर सड़कों पर बैठने के लिए मजबूर हुआ है ।

अन्नदाता द्वारा चलाए गए इस आंदोलन में 100 से ज्यादा किसानों शहीद हो चुके है मैं इस आंदोलन में शहीद हुए किसानों को दिल से नमन करते हूंये सादगी से अपने छोटे भाई जितेंद्र पाल राणा के साथ बिना किसी शोर-शराबे के नगर कौंसिल चुनावों के लिए प्रमाण पत्र दाखिल करने आया हूं उन्होंने कहा कि पंजाब का हर वर्ग अपने देश के अन्नदाता के साथ कंधे से कंधा मिला कर खड़ा है इस समय उनके साथ भारी गिनती में जनसमूह उपस्थित रहा ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *