Know what is the difference between hoisting the flag

जानिए स्वतंत्रता दिवस और गणतंत्र दिवस में झंडा फहराने में क्या है अंतर ?

Latest National

कुछ जानने योग्य बाते (पंजाब 365 न्यूज़ ) : अक्सर हम आज की पनि नई पीढ़ी से अगर पूछ ले की स्वतंत्रता दिवस और गणतंत्र दिवस दोनों में क्या अंतर् है तो वो बता नहीं पाते है अगर बताएंगे तो गलत ही बताएंगे। बहुत ही कम लोगो को इनका पता होता है। आजकल की हमारी भावी पीढ़ी मोबाइल में डूबी रहती है ऐसी बातों का उनको ज्ञान ही नहीं होता है। तो आइये आज हम आपको इन दोनों का अंतर बताते है जो हमारी आज की सभी भावी पीढ़ी को भी पता होना चाहिए। भारत और यहां के नागरिकों के लिए दोनों ही दिन बेहद महत्वपूर्ण हैं। 15 अगस्त को जहां पूरा देश शहीदों को नमन कर आजादी का जश्न मनाता है, वहीं 26 जनवरी हमें अपने संविधान (Constitution of India) और लोकतंत्र (Democracy) की अहमियत का एहसास कराती है। साल में इन दोनों अवसरों पर देशभर में झंडोतोलन कार्यक्रम आयोजित किए जाते हैं। लेकिन दोनों में कुछ मूल अंतर हैं। ऐसे ही तीन बड़े अंतर आगे बताए जा रहे हैं।

राष्ट्रपति देश के संवैधानिक प्रमुख हैं और प्रधानमंत्री राजनीतिक। भारत का संविधान 26 जनवरी, 1950 को लागू किया गया था। जिस उपलक्ष्य में इस दिन गणतंत्र दिवस मनाया जाता है। इसी दिन देश को अपने पहले राष्ट्रपति (First President of India) भी मिले थे। डॉ. राजेंद्र प्रसाद (Dr Rajendra Prasad) ने इसी दिन राष्ट्रपति के रूप में कार्यालय संभाला था। इसलिए 26 जनवरी को राष्ट्रपति ध्वज फहराते हैं।
पहला अंतर
15 अगस्त स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर झंडे को नीचे से रस्सी द्वारा खींच कर ऊपर ले जाया जाता है, फिर खोल कर फहराया जाता है, जिसे ध्वजारोहण कहा जाता है क्योंकि यह 15 अगस्त 1947 की ऐतिहासिक घटना को सम्मान देने हेतु किया जाता है जब प्रधानमंत्री जी ने ऐसा किया था। संविधान में इसे अंग्रेजी में Flag Hoisting (ध्वजारोहण) कहा जाता है।
जबकि
26 जनवरी गणतंत्र दिवस के अवसर पर झंडा ऊपर ही बंधा रहता है, जिसे खोल कर फहराया जाता है, संविधान में इसे Flag Unfurling (झंडा फहराना) कहा जाता है।
––———————————-
दूसरा अंतर
15 अगस्त के दिन प्रधानमंत्री जो कि केंद्र सरकार के प्रमुख होते हैं वो ध्वजारोहण करते हैं, क्योंकि स्वतंत्रता के दिन भारत का संविधान लागू नहीं हुआ था और राष्ट्रपति जो कि राष्ट्र के संवैधानिक प्रमुख होते है, उन्होंने पदभार ग्रहण नहीं किया था। इस दिन शाम को राष्ट्रपति अपना सन्देश राष्ट्र के नाम देते हैं।
जबकि
26 जनवरी जो कि देश में संविधान लागू होने के उपलक्ष्य में मनाया जाता है, इस दिन संवैधानिक प्रमुख राष्ट्रपति झंडा फहराते हैं
———————––————–
तीसरा अंतर
स्वतंत्रता दिवस के दिन लाल किले से ध्वजारोहण किया जाता है।
जबकि
गणतंत्र दिवस के दिन राजपथ पर झंडा फहराया जाता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *