Good News: Schools

खुशखबरी : आज से पंजाब में खुल गए स्कूल

Education Latest Punjab

पंजाब (पंजाब 365 न्यूज़ ) : कोरोना माहमारी के चलते काफी समय से बंद पड़े स्कूलों में आज पहर से चहल पहल शुरू हो गयी है। कोरोना के दौर में बच्चों की पढ़ाई पर भी बहुत असर देखने को मिला है। कोरोना की दूसरी लहर भी अब शांत हो गयी है। कोरोना महामारी की दूसरी लहर शांत होने के बाद जिले में 10वीं से 12वीं क्लास तक के लिए सभी सरकारी और कुछ प्राइवेट स्कूल सोमवार को खोल दिए गए हैं।
कोरोना के मामलों में गिरावट के बीच सोमवार से पंजाब में 10वीं से 12वीं के स्कूल खुल गए। स्कूल में वही शिक्षक प्रवेश कर पाए, जिन्होंने टीके की दोनों खुराकें लगवाई हुई हैं। विद्यार्थियों के लिए स्कूल में प्रवेश के लिए माता-पिता की स्वीकृति भी जरूरी रही। शिक्षा विभाग ने कोरोना संक्रमण को लेकर जारी की गई सरकार की गाइड लाइन के अनुरूप सभी तैयारियां पूरी कर ली हैं।


स्कूल में बच्चों को एंट्री देने से पहले उनका टेंपरेचर चेक किया जा रहा है। इसके अलावा उनके पास पेरेंट्स का कंसेंट लेटर यानी बच्चे को स्कूल भेजने के लिए अभिभावकों का सहमति पत्र भी चेक किया जा रहा है। इसके बगैर विद्यार्थियों को स्कूल में आने की अनुमति नहीं है। स्कूल के भीतर मास्क को अनिवार्य किया गया है। वहीं, क्लास रूम में भी बच्चों के बीच सोशल डिस्टेंस रखा जा रहा है ताकि कोरोना महामारी के खतरे को कम किया जा सके।


स्कूलों में बच्चों की गिनती फिलहाल कम है, लेकिन जो भी बच्चे स्कूल पहुंचे हैं वह इससे खुश हैं। उनका कहना है कि ऑनलाइन पढ़ाई में हर वक्त मोबाइल या लैपटॉप में नजरें खड़ा कर बैठे रहना पड़ता था, जिसकी वजह से उन्हें परेशानी होती थी। इसके अलावा पढ़ाई के दौरान उनका ध्यान भी भटकता रहता था। हालांकि अभी स्कूल में ऑफलाइन पढ़ाई होगी तो टीचर सामने होंगे, जिससे अच्छी तरह से समझ आएगा और अगर उनका कोई डाउट होगा तो वह भी वहीं पर क्लियर हो जाएगा।


सोमवार यानी आज से जिले में सभी 273 सरकारी स्कूल खुल गए हैं। जिनमें 152 सेकेंडरी और 121 हाईस्कूल शामिल हैं। इसके अलावा फिलहाल 17 प्राइवेट स्कूल ही खुले हैं। हालांकि कुछ स्कूल 28 जुलाई और 2 अगस्त तक खोलने की तैयारी कर रहे हैं।


पंजाब में पहले चरण में स्कूल खोलने के पीछे गिरती संक्रमण दर है। चिकित्सा विशेषज्ञों का कहना है कि 5 प्रतिशत से कम संक्रमण दर वाले जिलों में स्कूलों को खोलने की योजना बनाई जा सकती है। विशेषज्ञों का कहना है कि बच्चों ने इस वायरस के खिलाफ अच्छी इम्युनिटी हासिल कर ली है। सबसे खास बात यह है कि बच्चों के लंग्स में रिसेप्टर कम होते हैं जहां वायरस जाता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *