From the windows of memories:

यादों के झरोखों से : 2021 की कुछ ऐसी घटनाये जो भुलाए नहीं भूली जाये

Latest National

2021 की यादें ( पंजाब 365 न्यूज़ ) : साल 2021, ऐसा साल जिसको शायद ही कोई भूल पायेगा। वैसे तो इस साल में हमने काफी कुछ खोया है और काफी कुछ पाया है लेकिन हम आपको इस साल की कुछ महत्वपूर्ण घटनाओ के बारे में बतायेगे जो इस साल घटित हुई हैं। इस साल में कई बड़े दिग्गज दुनिया को अलविदा कह गए। एक तरफ कोरोना की दूसरी लहर ने देश की मुस्बिते बढ़ा कर रखी तो दूसरी तरफ किसान आंदोलन ने सर्कार की नाम में डीएम कर रखा था।
कोरोना वायरस महामारी के बीच इस साल देश में ऐसी कई बड़ी घटनाएं देखने-सुनने को मिली, जिनके लिए साल 2021 को हमेशा याद किया जाएगा। इस साल जहां कोरोना की दूसरी लहर ने देश को झकझोर कर रख दिया, वहीं कुछ बड़ी उपलब्धियां भी देश को मिलीं। डिफेंस स्टाफ के चीफ जनरल बिपिन रावत इसी साल हमें छोड़कर चले गए। अब जब इस साल को बीतने में चंद दिनों का ही वक्त बचा है, तो ऐसे में हम साल 2021 के 12 महीनों में घटी बड़ी घटनाओं के बारे में आपको बता रहे हैं।
1-भारत का किसान आंदोलन : कैसे मिली किसानो को जीत :
2021 देश के साथ ही पूरे विश्व को भी याद रहेगा। इस साल किसानों ने स्वतंत्र भारत के इतिहास में सबसे बड़े आंदोलन को खड़ा कर ऐतिहासिक इबारत लिख दी। कृषि कानूनों के विरोध में शुरू हुआ यह आंदोलन 13 माह तक चला। अंत में केंद्र सरकार को किसानों के सामने घुटने टेकने पड़े और उनकी सभी मांगों को मानकर तीनों कृषि कानूनों को वापस लेना पड़ा।
5 जून, 2020 को केंद्र सरकार ने तीन कृषि विधेयकों को संसद के पटल पर रखा। 20 सितंबर को लोकसभा के बाद इसे राज्यसभा में पारित किया गया। यहीं से इस ऐतिहासिक आंदोलन की शुरुआत हुई। 24 सितंबर को आंदोलन की शुरुआत पंजाब के किसानों ने शुरू की। आंदोलन के तहत किसानों ने 3 दिन के लिए रेल रोकी।
15 अक्तूबर से आंदोलन चलाने की चेतावनी किसानों ने दी। इसके बाद आंदोलन के दौरान कई उतार चढ़ाव आए। रेल रोको से शुरू हुए किसान आंदोलन को अन्य राज्यों से भी भरपूर सहयोग मिला। इसके बाद लाखों किसानों ने गणतंत्र दिवस पर दिल्ली में ट्रैक्टर रैली की। इस दौरान पहली बार आंदोलन हिंसात्मक हुआ।


आंदोलन के दौरान बेअदबी के आरोप में युवक की नृशंस हत्या दिल्ली बॉर्डर पर हुई। देश विरोधी तत्वों की शामूलियत के आरोपों से आंदोलन पर सवाल भी उठे। आंदोलन के दौरान लगभग 700 से अधिक किसानों की मौत भी हुई। 9 दिसंबर, 2021 को किसान संगठनों की कई मांगों को केंद्र सरकार ने स्वीकार किया।मुआवजे को लेकर सहमति जताते हुए बिजली बिल को लेकर कहा गया कि संसद में लाने से पहले संयुक्त किसान मोर्चा से चर्चा की जाएगी।
2-कोविड की दूसरी लहर और ऑक्सीजन संकट :
कोरोना की दूसरी लहर का दौर काफी मुश्किल रहा. दरअसल इस साल दूसरे लहर के दौरान कोरोना के डेल्टा स्ट्रेन ने सबको डरा कर रख दिया. इस वेव में कई लोग संक्रमित हो रहे थे और सांस लेने में तकलीफ के कारण अस्पताल में भर्ती हो रहे थे. अस्पताल के बाहर मरीजों की कतार का वो मंजर शायद ही कोई भूल पाएगा. वहीं लोगों को ऑक्सीजन सिलेंडर और रेमडेसिविर के लिए भी बहुत भटकना पड़ा. हालांकि केंद्र के अनुसार कोरोना की दूसरी लहर के दौरान ऑक्सीजन की कमी से एक भी जान नहीं गई है.

3-अमेरिकी संसद कैपिटल हिल पर हिंसा
6 जनवरी 2021 को अमेरिकी संसद कैपिटल हिल (Capitol Hill) पर हुई हिंसा ने न केवल दुनिया के सबसे ताकतवर देश का सिर झुकाकर उसे शर्मसार कर दिया बल्कि इस घटना को इतिहास के पन्नों में दर्ज करवा दिया। कैपिटल हिल पर सत्ता के लिए ऐसी लड़ाई हुई थी कि जिसने लोकतंत्र के मंदिर को शर्मसार कर दिया था। अमेरिका में राष्ट्रपति चुनाव के परिणाम आने के बाद कैपिटल हिल में डोनाल्ट ट्रंप के समर्थकों ने जमकर हंगामा किया।

4-किसानों के ट्रैक्टर मार्च के दौरान लाल किले पर हिंसा
केंद्र सरकार के तीन कृषि कानूनों के खिलाफ दिल्ली की सीमाओं पर धरने पर बैठे किसानों ने 26 जनवरी को राजधानी में ट्रैक्टर मार्च निकाला। इस ट्रैक्टर मार्च के दौरान दिल्ली में कई जगह किसानों और पुलिस के बीच टकराव भी देखने को मिला। वहीं, बड़ी संख्या में किसान दिल्ली के लालकिले पर पहुंचे और वहां धार्मिक ध्वज लहराया। इस घटना के बाद पुलिस ने मामला दर्ज करते हुए कई लोगों को गिरफ्तार किया।

5-उत्तराखंड के चमोली जिले में ग्लेशियर फटा
उत्तराखंड के चमोली जिले के तपोवन इलाके में ग्लेशियर फटने की घटना हुई, जिसकी चपेट में आकर 170 लोगों के बह जाने की आशंका जताई गई। इस घटना ने 2013 के केदारनाथ त्रासदी की याद ताजा कर दी। शाम तक 7 निकाले गए, लेकिन मौत का आंकड़ा कई दिनों तक बढ़ता चला गया। इसकी वजह से जोशीमठ के पास ऋषिगंगा हाइड्रो प्रोजेक्ट पूरी तरह तबाह हो गया और धौलीगंगा नदी में एनटीपीसी का हाइड्रो प्रोजेक्ट भी क्षतिग्रस्त हो गया।

6-अहमदाबाद के मोटेरा स्टेडियम का नाम नरेंद्र मोदी स्टेडियम हुआ
राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने दुनिया के सबसे विशाल क्रिकेट स्टेडियम का उद्घाटन किया है। इस स्टेडियम का नाम अब मोटेरा से बदलकर पीएम नरेंद्र मोदी के नाम पर कर दिया गया है। यह स्टेडियम सरदार वल्लभाभाई पटेल स्पोर्ट्स एंक्लेव का हिस्सा होगा, जिसके लिए राष्ट्रपति ने भूमि पूजन किया है। स्टेडियम के निर्माण पर करीब 800 करोड़ रुपये की लागत आई है और यह 63 एकड़ में फैला है, जो कि ओलंपिक-साइज के 32 फुटबॉल मैदान के बराबर है।

7-बीजापुर-सुकमा मुठभेड़ में 22 जवान शहीद हुए
छत्तीसगढ़ के नक्सल प्रभावित बीजापुर और सुकमा के सीमावर्ती क्षेत्र के जंगल में नक्सलियों से हुई मुठभेड़ में 22 जवान शहीद हो गए थे। दरअसल सुरक्षाबलों को खुफिया एजेंसियों ने बीजापुर, सुकमा, कांकेर में 300 नक्सली कैंप की सूचना दी थी, जिसको लेकर सुरक्षाबलों की तरफ से ऑपरेशन चलाया गया था। इसी दौरान ये मुठभेड़ हुई।

8-वरिष्ठ पत्रकार रोहित सरदाना का निधन
देश के जाने-माने टीवी न्यूज एंकर रोहित सरदाना का 30 अप्रैल को निधन हो गया। कुछ दिनों पहले उन्होंने RT-PCR टेस्ट करवाया था, लेकिन उसकी रिपोर्ट निगेटिव आई। बाद में सीटी स्कैन में उनके कोरोना पॉजिटिव होने की पुष्टि हुई। इसके बाद से ही उनका इलाज चल रहा था। रोहित का जन्म 22 सितंबर को हरियाणा के कुरुक्षेत्र में हुआ था।

9. 5 राज्यों में विधानसभा चुनाव के नतीजे
इस साल 2 मई को असम, तमिलनाडु, पश्चिम बंगाल, केरल और पुडुचेरी के विधानसभा चुनावों के नतीजों का ऐलान किया गया। खासतौर से पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव के जो नतीजे आए उन्होंने सबको चौंका दिया। ममता बनर्जी की अगुवाई में तृणमूल कांग्रेस ने विधानसभा की 294 सीटों में टीएमसी ने 215 सीटें जीतकर अपना परचम लहराया। दूसरे स्थान पर भारतीय जनता पार्टी रही। भाजपा को इस चुनाव में 77 सीटें मिलीं। बंगाल के इतिहास में ऐसा पहली बार हुआ जब कांग्रेस को एक भी सीट नहीं मिली।

10-फ्लाइंग सिख के नाम से मशहूर मिल्खा सिंह का निधन
18 जून को देश के लिए एक बुरी खबर आई, जहां फ्लाइंग सिख के नाम से मशहूर एथलीट मिल्खा सिंह का निधन हो गया। वो 85 वर्ष के थे। निधन से कुछ दिनों पहले ही वो कोरोना से ठीक हुए थे, लेकिन उनके शरीर के अंग ठीक ढंग से काम नहीं कर रहे थे। जिस वजह से पीजीआई चंडीगढ़ में उनका इलाज चल रहा था। वहीं पर उन्होंने अंतिम सांस ली। उनके निधन से पहले 13 जून को उनकी पत्नी का भी निधन हुआ था।

11-देश में पहली बार आतंकियों ने ड्रोन से किया हमला
जम्मू-कश्मीर लंबे वक्त से आतंकवाद से प्रभावित है, लेकिन 27 जून 2021 को वहां पर ऐसी घटना हुई, जिससे पूरा देश हिल गया। आतंकियों ने दो ड्रोन के जरिए जम्मू एयरबेस पर विस्फोटक गिराए। इससे एक बिल्डिंग की छत और एक जमीन पर विस्फोट हुआ। आतंकी एयरबेस पर मौजूद जवानों और एयरक्रॉफ्ट को नुकसान पहुंचाना चाहते थे, लेकिन वो अपने मंसूबे में कामयाब नहीं हो पाए। बाद में जांच के दौरान इस घटना में पाकिस्तान की साजिश का खुलासा है।

12-मंदिरा बेदी के पति राज कौशल का निधन
30 जून को बॉलीवुड से एक बुरी खबर आई थी, जहां बॉलीवुड अभिनेत्री मंदिरा बेदी पर दुखों का पहाड़ टूट पड़ा था। 30 तारीख को मंदिरा के पति राज कौशन का निधन कार्डिएक अरेस्ट की वजह से हुआ। राज पेश से प्रोड्यूसर और स्टंट डायरेक्टर थे। दोनों ने 1999 में शादी रचाई थी। उनके एक बेटा और एक बेटी है। इस घटना की वजह से मंदिरा बेदी का परिवार काफी दिनों तक सदमे में था।

13-आमिर खान और किरण राव ने लिया तलाक
3 जुलाई को आमिर खान और उनकी दूसरी पत्नी किरण राव ने सहमति से एक-दूसरे से अलग होने का ऐलान किया। ये दोनों करीब 15 साल एकसाथ रहे। दोनों की तरफ से जारी एक बयान में कहा गया था कि पिछले 15 साल हमारे जीवन के बहुत ही खूबसूरत साल रहे। इन सालों में हमने जीवन भर के अनुभव, खुशी और हंसी एक-दूसरे के साथ साझा की। हमारे रिश्ते में केवल विश्वास, सम्मान और प्यार बढ़ा था। अब हम अपने जीवन में एक नया अध्याय शुरू करना चाहेंगे, पति-पत्नी के तौर पर नहीं बल्कि एक दूसरे के लिए सह माता-पिता के रूप में।

14-अश्लील फिल्म मामले में राज कुंद्रा की गिरफ्तारी
बॉलीवुड एक्ट्रेस शिल्पा शेट्टी के पति और बिजनेसमैन राज कुंद्रा को मुंबई की क्राइम ब्रांच ने 19 जुलाई को अश्लील फिल्म बनाने के आरोप में गिरफ्तार किया। राज कुंद्रा पर अश्लील फिल्में बनाने और उनको ऐप पर रिलीज करने का आरोप लगाया गया था। वहीं कई एक्ट्रेस ने भी राज को लेकर कहा था कि उन पर दवाब बनाकर न्यूड शूट करवाया। इस केस में एक्ट्रेस गहना वशिष्ठ की भी मुश्किलें बढ़ी थी

15-41 साल बाद ओलंपिक में भारतीय हॉकी टीम ने जीता मेडल
टोक्यो ओलंपिक में भारतीय पुरुष हॉकी टीम ने 41 साल बाद चमत्कार दिखाते हुए ब्रॉन्ज मेडल जीता था। टोक्यो ओलंपिक को भारत के शानदार प्रदर्शन के लिए याद जरूर किया जाएगा। इस ओलंपिक में भारत के खाते में कुल 7 मेडल आए थे, जो कि अभी तक का सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन था। भारतीय हॉकी टीम ने जर्मनी को हराकर ये मेडल अपने नाम किया था। भारत ने जर्मनी को 5-4 से हराया था। इससे पहले साल 1980 में भारत ने मॉस्को ओलंपिक में मेडल अपने नाम किया था।

16-टोक्यो ओलंपिक में नीरज चोपड़ा ने जीता गोल्ड
ये साल नीरज चोपड़ा को भी हमेशा याद रहेगा साथ ही साथ पुरे देश को भी। क्योकि टोक्यो ओलंपिक में 7 अगस्त 2021 की तारीख भारत के लिहाज से बहुत ही महत्वपूर्ण तारीख है, क्योंकि इसी दिन जैवलीन थ्रोअर नीरज चोपड़ा ने ओलंपिक में भारत को गोल्ड दिलाया। भारत की खाते में 13 साल के बाद ओलंपिक में गोल्ड आया। नीरज चोपड़ा ने अपने पहले थ्रो में 87.03 मीटर, दूसरे थ्रो में 87.58 मी., जबकि तीसरे थ्रो में 76.79 मी. दूर भाला फेंका। नीरज चोपड़ा की इस कामयाबी पर पूरा देश जश्न में झूम उठा।

17-अफगानिस्तान में तालिबान का कब्जा
इस साल 15 अगस्त को अफगानिस्तान में तालिबान की वापसी हुई। अगस्त के पहले हफ्ते से ही अफगानिस्तान में तालिबानी लड़ाकों की संख्या में इजाफा होना शुरू हो गया था। कंधार जैसे प्रांत से तालिबान ने कब्जा करना शुरू किया था और 15 अगस्त को तालिबान ने राजधानी काबुल पर कब्जा कर लिया। तालिबानी लड़ाकों ने राष्ट्रपति भवन से अफगानिस्तान का झंडा उतारकर अपना झंडा लगा दिया। इससे पहले अफगानिस्तान में 2001 में तालिबान की सत्ता थी। इस घटना में पहली बार लोग विमान पर लटकने को मजबूर हो गए और केस इस घटना में मारे भी गए। छोटे छोटे बच्चे रट बिलखते दिखे एयरपोर्ट पर।

18-कैप्टन अमरिंदर सिंह का पंजाब के मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा और चन्नी का कम बनना :
पंजाब कांग्रेस में लंबे समय से चल रही कलह के बाद कैप्टन अमरिंदर सिंह ने 18 सितंबर को मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा दे दिया। इस्तीफा देने की वजह बताते हुए कैप्टन अमरिंदर सिंह ने कहा कि कांग्रेस पार्टी ने मुझे पिछले दो महीनों में तीन बार अपमानित किया था। दरअसल 2019 के लोकसभा चुनाव के बाद से ही नवजोत सिंह सिद्धू और अमरिंदर सिंह आमने-सामने थे। दोनों की लड़ाई में कांग्रेस पार्टी दो धड़ों में बंट गई और नतीजतन कैप्टन को अपने पद से इस्तीफा देना पड़ा।
चमकौर साहिब से तीन बार के विधायक चरणजीत सिंह चन्नी ने पंजाब के 27वें मुख्यमंत्री के तौर पर शपथ ली। पूर्व मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंद सिंह के इस्तीफा देने के बाद चन्नी ने सीएम पद का चार्ज संभाला। कांग्रेस ने दलित मुख्यमंत्री बनाकर अगले साल होने वाले विधानसभा चुनावों से पहले दलित वोटरों को साधने की कोशिश की। चन्नी राज्य में दलित मुद्दों को उठाने में मुखर रहे हैं और उन्होंने कैप्टन अमरिंदर सिंह के खिलाफ बगावत भी की थी। इसके अलावा वह राहुल गांधी के बेहद करीबी माने जाते हैं।

19-लखीमपुर खीरी कांड
उत्तर प्रदेश के लखीमपुर खीरी जिले के तिकुनिया गांव में कृषि कानूनों का विरोध कर रहे प्रदर्शनकारी किसानों को गाड़ी से कुचलने की घटना ने पूरे देश को हिलाकर रख दिया था। लखीमपुर खीरी मामले में केंद्रीय गृह राज्यमंत्री अजय मिश्र टेनी के बेटे आशीष मिश्रा उर्फ मोनू के खिलाफ हत्या का मामला दर्ज किया गया है। इस घटना में 7 किसान, 1 पत्रकार और 3 लोगों की मौत हो गई थी।

20-एक्टर पुनीत राजकुमार का निधन
अक्टूबर में ही इस साल महज 46 साल की उम्र में कन्नड़ सुपरस्टार पुनीत राजकुमार ने दुनिया को अलविदा कह दिया था। हार्ट अटैक की वजह से 29 अक्टूबर को एक्टर पुनीत राजकुमार का निधन हो गया था, उनके जाने से पूरी फिल्म इंडस्ट्री शोक में डूब गई थी। इतना ही नहीं, पुनीत राजकुमार की मौत का सदमा कई फैंस नहीं सह सके, जिसके चलते 3 प्रशंसकों ने भी दम तोड़ दिया था।


21-सिद्धार्थ शुक्ला का निधन :
ये साल सिद्धार्थ शुक्ला के निधन के लिए भी याद रहेगा। अचानक से सिद्धार्थ की मौत की खबर सुन कर हर कोई हैरान रह गया। ऐक्‍टर और ‘बिग बॉस 13’ विनर सिद्धार्थ शुक्‍ला (Sidharth Shukla) अब इस दुनिया को अलविदा कह चुके हैं। । उनके निधन ने परिवार, दोस्‍तों के साथ-साथ फैंस को जैसे तोड़ दिया है। कोई समझ नहीं पा रहा है कि यह सबकुछ अचानक कैसे हुआ? अपनी सेहत का इतना ध्‍यान रखने वाला और सबसे फिट आदमी महज 40 वर्ष की उम्र में इस दुनिया को कैसे छोड़ गया? शुरू में डॉक्‍टर्स ने कहा कि सिद्धार्थ की मौत हार्ट अटैक की वजह से हुई है। इस पर कुछ लोगों ने सवाल भी उठाए लेकिन फिर 5 डॉक्‍टर्स ने ऐक्‍टर का पोस्‍टमार्टम किया। इस पूरी प्रकिया में दो पुलिसवाले भी मौजूद रहे।

22-केंद्र सरकार के तीन कृषि कानून वापस
पिछले करीब एक साल से केंद्र सरकार के तीन कृषि कानूनों के खिलाफ दिल्ली की सीमाओं पर चल रहे किसानों का आंदोलन उस वक्त खत्म हो गया, जब 19 नवंबर को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इन तीनों कानूनों को वापस लेने का ऐलान कर दिया। पीएम मोदी ने 19 नवंबर को सुबह देश के नाम अपने संदेश में कहा कि ये तीनों कानून किसानों के हित में लाए गए थे, लेकिन शायद सरकार किसानों को अपनी बात समझाने में असमर्थ रही।


23-भारत का वैक्सीन रिकॉर्ड :
इस साल 21 अक्टूबर को भारतीय इतिहास में एक एतिहासिक दिन दर्ज किया गया. दरअसल 21 अक्टूबर के दिन ही भारत में 100 करोड़ के वैक्सीन मार्क को पार कर लिया गया.


24-टाटा को 7 दशक बात मिला एयर इंडिया :
टाटा संस को करीब सात दशक बाद एयर इंडिया का स्वामित्व मिला। टाटा संस ने 2021 में एयर इंडिया की बोली जीती, जिस एयरलाइन की स्थापना उसने लगभग 90 साल पहले की थी। सरकार ने एयर इंडिया के लिए टाटा की तरफ से 18,000 करोड़ रुपए की बोली स्वीकार कर, टाटा को कंपनी का 100 फीसदी अधिग्रहण दे दिया। एयर इंडिया की स्थापना 1932 में जहांगीर रतनजी दादाभाई टाटा ने की थी।

25-पराग अग्रवाल ट्विटर के सीईओ नियुक्त किए गए
माइक्रो ब्लॉगिंग साइट ट्विटर ने साल 2021 में एक बड़ा फैसला लेते हुए 29 नवंबर को पराग अग्रवाल को नया सीईओ नियुक्त किया। पराग अग्रवाल ने जैक डोर्सी को सीईओ के पद पर रिप्लेस किया। पराग अग्रवाल ने ट्विटर के साथ सॉफ्टवेयर इंजीनियर के तौर पर अपना करियर शुरू किया और वो पिछले करीब एक दशक से कंपनी से जुड़े हुए हैं। इससे पहले पराग अग्रवाल को अक्टूबर 2017 में ट्विटर में चीफ टेक्नॉलोजी ऑफिसर के तौर पर नियुक्त किया गया था।

26 -हेलीकॉप्टर क्रैश में सीडीएस जनरल बिपिन रावत का निधन
8 दिसम्बर को भारत के पहले सीडीएस जनरल बिपिन रावत, उनकी पत्नी समेत 14 लोगों को लेकर जा रहा भारतीय वायुसेना का हेलीकॉप्टर एमआई-17वीएम तमिलनाडु के कुन्नूर की पहाड़ियों में क्रैश हो गया। हादसे में सीडीएस जनरल बिपिन रावत, उनकी पत्नी मधूलिका रावत समेत 11 अन्य सैन्यकर्मियों की मौत हो गई। हादसे में इकलौते घायल बचे ग्रप कैप्टन वरुण सिंह का भी बाद में इलाज के दौरान निधन हो गया था। वायु सेना ने हादसे की जांच के आदेश दिए हैं।

27 -एक साल बाद किसानों का आंदोलन समाप्त
11 दिसंबर को किसानों ने एक साल से चल रहा अपना आंदोलन समाप्त कर घर वापसी शुरू की। इससे पहले 9 दिसम्बर को किसान संगठनों ने सरकार के प्रस्ताव पर सहमति देते हुए अपना आंदोलन समाप्त करने की घोषणा की थी। केंद्र सरकार ने किसानों को भेजे अपने मसौदे में किसानों पर दर्ज किए गए मुकदमों की वापसी और एमएसपी पर किसानों के साथ चर्चा की बात कही थी।

28 -हरनाज कौर संधू बनी मिस यूनिवर्स 2021
13 दिसम्बर का दिन भारत के लिए बड़ी खुशखबरी लेकर आया जब देश की बेटी हरनाज कौर संधू ने मिस यूनिवर्स 2021 का ताज अपने नाम कर लिया। इजरायल में आयोजित 70वीं मिस यूनिवर्स प्रतियोगिता में संधू ने ये ताज अपने नाम किया। भारत ने 21 साल बाद इस प्रतियोगिता का टाइटल अपने नाम किया। इस प्रतियोगिता में ये तीसरी बार है जब भारत ने टाइटल जीता है। इसके पहले 1994 में सुष्मिता सेन और साल 2000 में लारा दत्ता ने ये खिताब जीता था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *