No trust in Taliban:

नहीं है तालिबान पर भरोसा : सिखों को सता रही अपनी जान की चिंता

Crime International Latest

अफगानिस्तान (पंजाब 365 न्यूज़ ) : तालिबान द्वारा अफगानिस्तान पर कब्ज़ा करने के उपरांत ही पुरे अफगानिस्तान में कोहराम मचा हुआ है। हर कोई वहां डर के साये में दिन काट रहा है। लोग तालिबान से जान बचाकर भाग रहे हैं। काबुल हवाई अड्डे पर मचा कोहराम देख दुनिया भर के लोग हैरान हैं। अफगानिस्तान में तालिबान के कब्जे के बाद हिंदू-सिखों ने मंदिर गुरुद्वारों की शरण ली है। अकेले काबुल के गुरुद्वारा में करीब 286 हिंदू-सिख फंसे हैं। इनमें से 24 परिवार लुधियाना में रह रहे अफगानिस्तानियों के भी हैं। सभी अब अफगानिस्तान से बाहर निकलना चाहते हैं। बता दें कि नब्बे के दशक में तालिबान के अफगानिस्तान पर कब्जे तक वहां करीब 2 लाख हिंदू और सिख थे।

इसके बाद कट्टपंथियों के अत्याचार बढ़ने पर उनका पलायन बढ़ता गया। आज वहां केवल करीब 800 हिंदू-सिख परिवार ही बचे हैं। ये भी अब अपनी जान बचाकर दूसरे देशों में शरण की मांग कर रहे हैं। दूसरी ओर, अफगानिस्तान के छह गुरुद्वारों में से केवल एक गुरुद्वारा साहिब खुला हुआ है। यहां पर भी तालिबान के लड़ाके सोमवार को पहुंच गए। उन्होंने यहां शरण लिए सिखों को आश्वासन दिया कि उन्हें जानी तौर पर कोई खतरा नहीं है। बावजूद इसके सिखों को उनके वादे पर बिल्कुल भरोसा नहीं है। यहां फंसे लोगों में लुधियाने में रह रहे अफगानिस्तानियों के भी स्वजन हैं।
तालिबान ने यह भी फरमान सुनाया कि गुरुद्वारा साहिब के बाहर सफेद रंग का झंडा लहराया जाए ताकि तालिबान लड़ाकों को पता चल जाए कि सिख उनकी शरण में है। इसके बावजूद सिखों को अपनी जान की चिंता है। उन्हें तालिबान पर भरोसा नहीं है। वहां रहते सिख खुद को असुरक्षित महसूस कर रहे हैं। ते हुए तालिबान पर यकीन न करने की बात कहते गुहार लगाई है कि उनको कनाडा या अमेरिका में बुला लिया जाए। उन्होंने इंटरनेट मीडिया पर एक वीडियो जारी करते हुए अफगानिस्तान से बाहर निकालने में मदद की गुहार लगाई है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *