Know why section 144 was imposed in Karnataka:

जानिए क्यों लगी कर्नाटक में धारा 144 :सब स्कूल कॉलेज बंद

Crime Latest National

कर्नाटक (पंजाब 365 न्यूज़ ) : कर्नाटक काफी दिनों से हिज़ाब विवाद को लेकर सुर्ख़ियों में था लेकिन रविवार को कर्नाटक के शिवमोगा में बजरंगदल कार्यकर्ता हर्षा की हत्या कर दी गई। शिवमोगा पुलिस ने मंगलवार तक जिले में कर्फ्यू लगाने की बात की है। इस घटना को लेकर सत्ताधारी भाजपा और विपक्षी कांग्रेस आमने-सामने हैं। लेकिन जब उनकी शव यात्रा निकाली गयी तो तनाव और बढ़ गया। उसकी शवयात्रा के दौरान लोगों का गुस्सा फूट पड़ा और ¨हिंसा भड़क गई। लोगों ने पथराव भी किया जिसमें एक महिला सिपाही और फोटो पत्रकार समेत कई लोग घायल हो गए। गंभीर हालात को देखते हुए शहर में धारा 144 लागू कर दी गई है और एहतियात के तौर पर सोमवार को स्कूल और कालेज भी बंद कर दिए गए। बजरंग दल ने हत्याकांड के विरोध में बुधवार 23 फरवरी को राज्य व्यापी बंद का आह्वान किया है।
आपको बता दे की रविवार रात करीब 9 बजे हर्षा की चाकू मारकर पर हत्या कर दी गई थी। वह 26 साल का था।​ जब हर्षा की शव यात्रा में हिंसा भी हुई। शिवमोगा के SP लक्ष्मी प्रसाद बीएम ने कहा जुलूस खत्म होने के बाद सब कुछ शांतिपूर्ण है। 500 से ज्यादा पुलिस फोर्स तैनात की गई है। इस मामले में अब तक तीन लोग अरेस्ट हुए हैं, दो और गिरफ्तारियां बाकी हैं।

किया था हिज़ाब का विरोध :
भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव (संगठन) बीएल संतोष ने सिलसिलेवार ट्वीट किया, ‘शैक्षणिक संस्थाओं में ड्रेस का समर्थन और हिजाब का विरोध करने पर हर्ष को जिहादी कट्टरपंथियों ने शिमोगा में उसके घर के सामने बेरहमी सा मार डाला। राष्ट्र विरोधी, हिंदू विरोधी कट्टरपंथी ताकतों द्वारा हर्ष की हत्या कर दी गई है।’उन्होंने कहा कि ‘वह कट्टरपंथियों के निशाने पर था। बलिदानी हर्ष को श्रद्धांजलि। दुख की इस घड़ी में हम सभी उसके परिवार के साथ हैं। गोवा के मुख्यमंत्री प्रमोद सावंत ने भी कहा कि स्कूल-कालेज में हिजाब के खिलाफ अभियान का समर्थन करने पर हर्ष की हत्या की गई। वहीं, केंद्रीय राज्यमंत्री शोभा करांदलजे ने मुख्यमंत्री को पत्र लिखकर इस मामले की एनआइए से जांच कराने की मांग की है। कर्नाटक के होन्नाली से भाजपा विधायक सांसद रेणुकाचार्य द्वारा हर्ष के परिवार को 2 लाख रुपए के मुआवजे की भी घोषणा की गई है। शिवमोगा जिले के प्रभारी मंत्री केसी नारायण गौड़ा ने कहा कि बजरंग दल कार्यकर्ता की हत्या की घटना बिना समर्थन के नहीं हो सकती। उन्होंने बताया कि आरोपी और मृतक के बीच हाथापाई हुई थी।शुरुआती जांच में पुलिस इसे हिजाब विवाद से जोड़कर देख रही है, क्योंकि हर्ष ने अपने फेसबुक प्रोफाइल पर हिजाब के खिलाफ और भगवा शॉल के समर्थन में पोस्ट लिखी थी। दरअसल, कर्नाटक के उडुपी में हिजाब विवाद सामने आने के बाद से ही बजरंग दल काफी सक्रिय है। इसीलिए हर्ष की हत्या में साजिश के एंगल का शक गहरा गया है। हालांकि, पुलिस इस पर कुछ भी बोलने से बच रही है।वारदात के बाद के बाद शिवमोगा में तनाव बढ़ गया। सोमवार को मुस्लिम बहुल इलाके आजाद नगर में भीड़ जुट गई। दुकानों पर तोड़फोड़ की। बाहर खड़े वाहनों में आग लगा दी गई। शाम तक तनाव बरकरार रहा। शहर के सीगेहट्टी इलाके में उपद्रवियों ने कई वाहनों में आग लगा दी। बढ़ते हंगामे के मद्देनजर शहर में धारा 144 लागू कर दी गई है। पुलिस ने बलप्रयोग कर भीड़ को हटाया।

हत्या करने पर 10,लाख का इनाम था घोषित :
परिवार ने कहा कि हर्षा कुछ दिन पहले ही बजरंग दल छोड़ चुका था। उसे धमकियां मिल रही थीं और इसकी शिकायत पुलिस को दी गई थी। पुलिस का कहना है कि वह मामले की जांच कर रही है। वहीं शिवमोगा जिले के प्रभारी मंत्री के.एस. नारायण गौड़ा ने कहा है कि स्थिति कंट्रोल में है। उन्होंने बताया कि पुलिस ने कासिफ और नदीम को गिरफ्तार किया है। आरोपी नदीम पर 10 मामले दर्ज हैं।परिवार ने कहा कि हर्षा की हत्या करने वाले को 10 लाख रु. इनाम देने का ऐलान किया गया था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *