Know who is Piyush Jain

जानिए कौन है पीयूष जैन जिसके घर की दीवारों से लेकर डस्टबीन तक मिला कैश ही कैश

Crime Latest National

कानपुर ( पंजाब 365 न्यूज़ ) : एक ऐसा इंसान जो देखने में बहुत साधारण लगता हो लेकिन असली धन का कुबेर वही हो तो कैसा लगेगा। जब पियूष के घर इतनी ज्याद संख्या में कैश की बरामदी हुई तो पियूष के पड़ोसी भी हैरान रह गए। पड़ोसियों ने कहा की हमने तो कभी सपने में भी नहीं सोचा था की इतना साधारण रहने वाला इंसान ने करोड़ों घर के अंदर छुपा रखे होंगे। दरअसल, पीयूष जैन कन्नौज के बड़े व्यापारियों में शुमार हैं और इत्र के बड़े कारोबारी माने जाते हैं. वैसे तो यह कानपुर के भी बड़े कारोबारी माने जाते हैं, मगर क्योंकि इनका मूल जन्म स्थान कन्नौज है, इसलिए इन्हें कन्नौज का धनकुबेर कहा जाता है. पीयूष जैन 40 से ज्‍यादा कंपनियों के मालिक हैं।
जानिए क्या क्या मिला पियूष के घर से :
दरअसल, पीयूष जैन के घर आयकर विभाग और डीजीजीआई की टीम ने रेड की और 36 घंटे तक चली छापेमारी में करीब 180 करोड़ रुपए मिले. आलमारीर से लेकर बिस्तरों के अंदर नोटों के बंडल मिले. इस 180 करोड़ रुपए को 80 बक्से में भरा गया और कर्मचारियों की मदद से बैंक तक पहुंचाए गए. 36 घंटे तक चली इस कार्रवाई में कुल 27 कर्मचारी लगातार लगे हुए थे. हालांकि, छापेमारी के दौरान घर के अंदर और बाहर दोनों जगह पुलिस बलों की तैनाती थी.।
जानिए कौन है पियूष जैन :
पीयूष जैन का मूल निवास स्थान कन्नौज के छपट्टी मोहल्ले का होली चौक है। और वर्तमान में कानपुर के आनंदपुरी में पीयूष जैन का आवास है। आनंदपुरी कॉलोनी में पीयूष का परिवार 7 साल पहले रहने आया था.

पीयूष जैन कानपुर के नामी परफ्यूम व्यवसायी हैं और समाजवादी पार्टी व अखिलेश यादव के काफी करीबी माने जाते हैं। पीयूष जैन ही वह शख्स हैं, जिन्होंने समाजवादी परफ्यूम को लॉन्च किया था।

TOI की रिपोर्ट के मुताबिक, इत्र कारोबारी पीयूष जैन के कानपुर और कन्नौज में घर के अलावा कन्नौज में परफ्यूम फैक्ट्री, कोल्ड स्टोर, पेट्रोल पंप हैं। मुंबई में पीयूष का घर, हेड ऑफिस और शोरूम भी है। जैन की कंपनियां मुंबई में भी रजिस्टर हैं।पीयूष जैन के पास लगभग 40 कंपनियां हैं, जिनमें से 2 मिडिल ईस्ट में हैं। जैन के मुंबई के शोरूम से परफ्यूम पूरे देश और विदेश में बिकता है।
GST घोटाले का है आरोप :
पीयूष जैन के घर पर इनकम टैक्स डिपार्टमेंट (Income Tax Department) ने छापेमारी की गई है। इसमें 150 करोड़ रुपये का कैश बरामद हुआ है। इनके ऊपर gst घोटाला का आरोप लगा है।
5 दिन से हो रही है नोटों की गिनती :
गुरुवार को आयकर विभाग की टीम ने पीयूष जैन के मुंबई, कन्नौज, गुजरात और कानपुर के ठिकानों पर छापेमारी की। खबर है कि इन छापों में अब तक 150 करोड़ रुपये का कैश बरामद हुआ है और गिनती जारी है। एक साथ शुरू हुई कार्रवाई को आज पांचवां दिन है और अभी नहीं नोटों की गिनती जारी है।
जैन की कंपनी ने शेल कंपनियों के नाम से लोन लिया था। DGGI, अहमदाबाद के अधिकारियों ने एक पान मसाला मैन्युफैक्चरर और एक ट्रांसपोर्टर यहां भी छापेमारी की है। ट्रांसपोर्टर ईवे बिल जनरेट किए बिना, फर्जी इनवॉइस के जरिए सामान ट्रांसपोर्ट कर रहा था और कर चोरी कर रहा था। ट्रांसपोर्टर के वेयरहाउस से पूर्व में बिना जीएसटी भुगतान किए परिवहन के लिए इस्तेमाल किए गए 200 से अधिक फर्जी चालानों को बरामद किया गया है।
घर में नहीं है CCTV लेकिन लगी है करंट वाली तारें :
पर्फ्यूम कारोबारी पियूष जैन ने साल 2007 में आनंदपुरी में मकान खरीदा था। लेकिन खुद कभी-कभी ही आते थे। बेटा प्रत्युष व प्रियांश यहीं रहते थे। बताया जाता है कि घर में अकूत दौलत होने के चलते गिने चुने लोग ही आते थे। घर में सीसीटीवी नहीं है लेकिन घर के बाहर और छतों पर कंटीले तारों की फेसिंग है। जिनमें रात को करंट दौड़ता था। घर के अंदर काले शीशे लगे हैं। जिससे कोई अंदर की हलचल ना देख सके।
इतना मिला कैश :
पीयूष जैन के ठिकानों पर जीएसटी इंटेलिजेंस, केन्द्रीय अप्रत्यक्ष कर और सीमा शुल्क बोर्ड (सीबीआईसी) और इनकम टैक्स के संयुक्त छापे को ऑपरेशन बिग बाजार नाम दिया गया है, इस छापेमारी में अब तक 257 करोड़ नकद, 250 किलो चांदी और 25 किलो सोना मिला है, वहीं 50 बीघा खेती जमीन मिलने की भी बात सामने आ रही है। छापेमारी टीम एक साथ इतना कैश देखकर दंग रह गई, इस अकूत नकदी को गिनने के लिये 19 मशीनें लगानी पड़ी, सूत्रों ने बताया कि नोट गिनते-गिनते मशीनें भी गर्म होने लगी थी, पीयूष जैन ने अपने बिस्तर के नीचे, दीवारों और सीढियों के अंदर तक नोटों की गड्डियां छुपा रखी थी, ऐसे में दीवारों और संदूक आदि को तोड़ने के लिये 10 मजदूर तक काम पर लगाने पड़े।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *