High alert in Punjab after Ludhiana blast: Home

लुधियाना धमाके के बाद पंजाब में हाई अलर्ट : गृह मंत्रालय ने मांगी राज्य सरकार से रिपोर्ट

Crime Latest Punjab

लुधियाना (पंजाब 365 न्यूज़ ) : लुधियाना कोर्ट में ब्लास्ट के बाद पूरे पंजाब में पंजाब सरकार ने हाई अलर्ट कर दिया है। विस्फोट में अभी तक दो लोगों की मौत की सूचना है, जबकि चार लोग घायल हो गए हैं। आपको बता दे की पंजाब में बीते दिनों में काफी ऐसी आतंकवादी गतिविधियां हुई है जिसके कारण पंजाब पर खतरा मंडरा ही रहा था। इंटेलिजेंस एजेंसियां भी इसे टिफिन बम से जोड़कर देख रही हैं। इंटेलिजेंस एजेंसियों को शक है कि कोर्ट कांप्लेक्स में जो धमाका हुआ है, उसमें टिफिन बम का इस्तेमाल हुआ है।

दरअसल अगस्त माह में इंटेलिजेंस एजेंसियों को सूचना मिली थी कि पाकिस्तान से 15 के करीब टिफिन बम आए थे, जिसमें से सुरक्षा एजेंसियों ने 10 करीब रिकवर कर लिए थे, जबकि पांच टिफिन बम सुरक्षा एजेंसियों की पहुंच से बाहर हैं। सुरक्षा एजेंसियों को आशंका है कि जो टिफिन बम मिसिंग हैं, उनमें से ही एक बम का कोर्ट कांप्लेक्स में इस्तेमाल किया गया है। हालांकि सरकार के मुताबिक एक ही व्यक्ति की मौत हुई है। घटना के बाद सीएम चरणजीत सिंह चन्नी मौके पर पहुंच गए हैं। लुधियाना के कोर्ट परिसर में गुरुवार दोपहर हुए बम धमाके के बाद गृह मंत्रालय ने पंजाब सरकार से इस मामले में रिपोर्ट तलब की है। वहीं पंजाब में हाई अलर्ट जारी कर दिया गया है। इसके साथ ही सूबे की सियासत भी गरमा गई है। पंजाब के सभी राजनीतिक दलों ने इस घटना की निंदा करते हुए इसे पंजाब की शांति भंग करने का प्रयास बताया है।


सीएम चन्नी ने कहा कि विधानसभा चुनाव नजदीक आते ही कुछ राष्ट्रविरोधी तत्व ऐसी हरकत कर रहे हैं। सरकार अलर्ट पर है। दोषी पाए जाने वालों को बख्शा नहीं जाएगा। चन्नी ने विस्फोट में घायल हुए लोगों का हालचाल जाना। डिप्टी सीएम सुखजिंदर सिंह रंधावा व डीजीपी सिद्धार्थ चट्टोपाध्याय मौके पर पहुंचे हैं। इस बीच गृह मंत्रालय ने पंजाब सरकार से विस्फोट मामले की रिपोर्ट मांगी है।


मौके पर पहुंची फोरेंसिक टीमें :
घटना के बाद मौके पर जायजा लेने पहुंचे उपमुख्यमंत्री और गृह मंत्री सुखजिंदर सिंह रंधावा ने कहा कि हमारी फोरेंसिक टीम मौके पर पहुंच गई है। उन्होंने कहा कि पंजाब एक सीमावर्ती राज्य है, इसलिए हम बाहरी ताकतों की संभावना सहित किसी भी चीज से इनकार नहीं कर सकते, क्योंकि वे कभी नहीं चाहते कि पंजाब स्थिर रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *