Is "red ant chutney" really

क्या सच में कोरोना में मददगार है ” लाल चींटी की चटनी ” ?

Corona Update Latest National

ओडिशा (पंजाब 365 न्यूज़ ) : कोरोना महामारी से आज के दौर में हर एक देश परेशान है कई जगह पर वैक्सीन लेने के बाद भी लोग पोस्टिव हो रहे है। लेकिन कई जगह पर लोग घरेलू उपाय भी प्रयोग करने के सुझाव दे रहे है। लेकिन इस वैश्विक महामारी ने घरेलू उपाय कितने कारगार साबित हो सकते है बस आज हम इसी के बारे में आपसे बात कर रहे हैं। यह बात सुनने में जरूर अजीब लगे पर है सच की लाल चींटी की चटनी खाने से कोरोना वायरस पर नियतंरण पाया जा सकता है। ओडिशा में एक आदिवासी युवक ने दवा किया है की लाल चींटी की चटनी से काफी हद तक हम कोरोना को मात दे सकते हैं। आपको ता दे की छत्तीसगढ़ में इसे बस्तरिया चटनी भी कहा जाता है। बस्तर में लगने वाले साप्ताहिक बाजार में चापड़ा के शौकीन इसे खूब खरीदते हैं। ऐसी मान्यता है कि साधारण बुखार होने पर ग्रामीण पेड़ के नीचे बैठकर चापड़ा लाल चीटियों से स्वयं को कटवाते हैं, इससे ज्वर उतर जाता है। बस्तर के हाट बाजार में बहुतायत में चापड़ा पांच रुपए दोना में बेचा जाता है। ग्रामीण जंगल जाकर पेड़ के नीचे गमछा, कपड़ा बिछाकर शाखाओं को जोर-जोर से हिलाते हैं, जिससे चींटियां झड़ कर नीचे गिरते हैं, उन्हें इकट्ठा कर बेचने के लिए बाजार लाया जाता है।


कैसे बनाई जाती है चटनी :
प्रायः आम, अमरूद, साल और अन्य ऐसे पेड़ जिनमें मिठास होती है उन पेड़ों पर यह चींटियां अपना घरौंदा बनाती हैं। आदिवासी एक पात्र में चींटियों को एकत्र करते हैं। इसके बाद इनकों पीसा जाता है। नमक, मिर्च मिलाकर रोटी के साथ या ऐसे ही खा लिया जाता है। चींटी में फॉर्मिक एसिड होने के कारण इससे बनी चटनी चटपटी होती है। इसमें प्रोटीन भी होता है।
आपको बता दे की हाई कोर्ट याचिकाकर्ता का कहना था कि वह ओडिशा का निवासी है और आदिवासी समुदाय ‘बथुडी’ से ता‍ल्‍लुक रखता है। उसने अपने ईमानदार विश्वास पर हाईकोर्ट का दरवाजा खटखटाया था कि ‘लाल चींटी की चटनी’ का इस्तेमाल प्रभावी ढंग से प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत करने के लिए इस्‍तेमाल किया जा सकता है। उच्च न्यायालय ने यह कहते हुए याचिका खारिज कर दिया कि सीएसआईआर और आयुष मंत्रालय ने याचिकाकर्ता के दावे को विशेषज्ञों के किसी निकाय के लिए अनुशंसित नहीं किया है।

याचिका में दलील दी गई थी कि लाल चींटी की चटनी, लाल चींटियों और हरी मिर्च का मिश्रण पारंपरिक रूप से ओडिशा और छत्तीसगढ़ समेत देश के आदिवासी इलाकों में फ्लू, खांसी, सामान्य सर्दी, थकान, सांस लेने में तकलीफ एवं अन्य के इलाज के लिए एक दवा के रूप में माना जाता है। याचिकाकर्ता ने दावा किया कि ‘लाल चींटी की चटनी’ का औषधीय महत्व है क्योंकि इसमें फॉर्मिक एसिड, प्रोटीन, कैल्शियम, विटामिन बी-12 और जिंक होता है! इसकी प्रभावशीलता को कोरोना के इलाज के रूप में पता लगाने की दरकार है।


क्या कहा सुप्रीम कोर्ट ने :
सुप्रीम कोर्ट ने गुरुवार को कहा कि वह पारंपरिक ज्ञान या घरेलू उपचार को पूरे देश के लिए कोरोना के इलाज के रूप में इस्तेमाल करने का निर्देश नहीं दे सकता है। इसके साथ ही सर्वोच्‍च अदालत ने कोरोना के इलाज के रूप में ‘लाल चींटी की चटनी’ के उपयोग के लिए निर्देश देने की मांग संबंधी याचिका खारिज कर दी। शीर्ष अदालत ने कहा कि पारंपरिक ज्ञान बहुत हैं। ये उपाय आप (याचिकाकर्ता) स्वयं के उपभोग के लिए आजमा सकते हैं लेकिन हम इस पारंपरिक ज्ञान को देश भर में लागू करने के लिए नहीं कह सकते हैं।

इस टिप्‍पणी के साथ ही जस्टिस डीवाई चंद्रचूड़, जस्टिस विक्रम नाथ और हेमा कोहली की पीठ ने ओडिशा के आदिवासी समुदाय के सदस्य याचिकाकर्ता नयाधर पधियाल को कोविड-19 रोधी वैक्‍सीन लगवाने की सलाह दी। याचिकाकर्ता की ओर से पेश अधिवक्ता अनिरुद्ध संगनेरिया ने कहा कि चूंकि ओडिशा हाईकोर्ट ने याचिका खारिज कर दी है इसलिए उन्‍होंने आदेश को चुनौती दी है।
इस पर सर्वोच्‍च अदालत ने कहा कि समस्या तब शुरू हुई जब ओडिशा उच्च न्यायालय ने आयुष मंत्रालय के महानिदेशक और वैज्ञानिक एवं औद्योगिक अनुसंधान परिषद (सीएसआईआर) को तीन महीने के भीतर लाल चींटी की चटनी को कोविड-19 के उपचार के लिए इसके इस्‍तेमाल के प्रस्ताव पर निर्णय लेने का निर्देश दिया। हम इसे तुरंत खत्म कर रहे हैं। हम संविधान के अनुच्छेद-136 के तहत विशेष अनुमति याचिका पर विचार करने के इच्छुक नहीं हैं इसलिए यह याचिका खारिज की जाती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *